Azadi ka Amrit Mahotsav essay in hindi 1500+ words

amrit mahotsav essay in hindi

Azadi Ka Amrit Mahotsav essay in hindi

आजादी का 75 वर्ष “अमृत महोत्सव”:भारत विश्व का सातवां सबसे बड़ा देश है। इसे भारत, हिंदुस्तान और आर्यवर्त के नाम से भी जानते है। भारत एक ऐसा देश है जहां के लोग अलगअलग भाषा बोलते है और विभिन्न जाति, धर्म, संप्रदाय और संस्कृती के लोग एक साथ रहते है। इसी वजह भारत को ‘विविधता में एकता’ का देश कहा जाता है। भारत का इतिहास अति प्राचीन, अति विशाल और अति गहरा है। ज्ञान, विज्ञान, समृद्धि, कलाकारी, शौर्य और आधात्म से परिपूर्ण है। जब भारत गुलामी की जंजीर से बंधा था तब 15 अगस्त ,1957 को देश अंग्रेजी हुकूमत से आजाद हुआ। अब देश स्वावलंबी के रास्ते में निरंतन आगे बढ़ रहा ,रोज नईनई उंचाई को छू रहा है। स्वतंत्रता की 75 वर्षगाँठ पर शुरू हुआ आजादी का अमृत महोत्सव स्वालंबन की दिशा में उठाया गया एक और कदम है।चलिये हम सब अब पढते हैं अमृत महोत्सव पर निबंध|

 

आजादी का अमृत महोत्सव क्या है

Azadi Ka Amrit Mahotsav essay in hindi:15 अगस्त, 2022 को देश आजादी के 75 वर्षगाँठ मनायेगा। इस आजादी के 75  वर्षगाँठ को मानने के लिए 75 हफ्तों पहले आजादी का अमृत महोत्सव का आगाज हुआ। प्रधानमंत्री जी ने 12 मार्च, 2021 को अहमदाबाद के साबरमती आश्रम में इस आजादी का अमृत महोत्सव का उद्घाटन किया था। ये महोत्सव 12 मार्च  2021 से 15 अगस्त 2023 तक चलेगा।

आजादी का अमृत महोत्सव का महत्व

प्रधानमंत्री मोदी जी ने 12 मार्च,2022 में अमृत महोत्सव की शुरुआत की थी क्योंकि इसी दिन महात्मा गांधी और उनके साथियों ने नमक पर लगाए गए अंग्रेजी हुकूमत द्वारा लगान के विरोध में ‘नमक सत्याग्रह’ की शुरुआत की थी।  अंग्रेजों  ने चाय, कपड़ा और नमक पर अधिकार जमाए हुआ था। महात्मा गांधी जी ने इसी के विरोध में यात्रा निकाली थी जो की साबरमती आश्रम से शुरू हुई थी। महात्मा गांधी जी ने 24 मार्च, 1930 दांडी में समुद्र के किनारे नमक बनाकर अंग्रेजों के काले कानून को तोड़ा था। ये यात्रा 24 दिन चली थी जिसमें 80 लोग शामिल थे। 390 किलोमीटर तक चली इस पद यात्रा में हजारों लोग जुड़ गए थे।

अमृत महोत्सव मानने का उद्देश्य

आज भारत का अपना अलग मुकाम है और निरंतर नईनई उपलब्धता को पार कर रहा है। आज हर क्षेत्र में भारत आगे है पर जब भारत गुलामी की बेड़ियों से जकड़ा था तब इस देश को स्वतंत्र करने के लिए बहुत से सुपूतों ने बलिदान दिया और बहुत कष्ट सहे। परंतु अभी भी बहुत से लोग है जो आजादी के संघर्ष को नहीं जानते और उनके बलिदान की कहानी नहीं पता है इसलिए आजादी के महोत्सव के माध्यम उन सभी लोगों को आजादी के सही मायने बताने बहुत जरूरी है। इस अमृत महोत्सव में उन वीर सुपूतों को याद करना है, जो अपने परिवार और अपना समस्त जीवन केवल देश को समर्पित कर दिया। कवि प्रदीप की रचना के माध्यम से भारत के वीर शहीदों की याद में कुछ पंक्तियां

"ऐ मेरे वतन के लोगों जरा आंख में भर लो पानी जो शहीद हुए है उनकी जरा याद करो कुर्बानी"

अमृत महोत्सव के कार्यक्रम

आजादी का महोत्सव किसी विशेष जाति, धर्म अथवा राज्य नहीं बल्कि संपूर्ण भारत के लिए महत्वपूर्ण है। अमृत महोत्सव एक राष्ट्रीय महोत्सव है। आजादी का अमृत महोत्सव 75 सप्ताह तक मनाया जायेगा और हर सप्ताह में अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित कराए जा रहे हैं और उनके माध्यम से लोगों के मन में देश प्रेम को जागरूक किया जाता है, इस बार आजादी का अमृत महोत्सव 12 मार्च से शुरू हुआ था जो अगले 75 सप्ताह तक चलेगा।  

आजादी का अमृत महोत्सव सभी सरकारी संस्थान में धूमधाम से मनाया जा रहा है कुछ जगहों पर रैलियां भी निकाली जाती है ताकि इस का महत्व लोगों तक पहुंच सके। देश में जितने भी सरकारी भवन है उन सब में राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है। स्कूल के बच्चे सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लेते है और अपने कला के माध्यम से आजादी का महोत्सव मानते है। स्कूल में बहुत अच्छे से तैयारी की जा रही है और बच्चों को आजादी के संघर्ष की कहानियां बताई जा रही है। 15 अगस्त 2021 से कार्यक्रम की शुरुआत हो चुकी जिसमें देश के संगीत, नृत्य, प्रवचन और प्रस्तावना पठन शामिल है। इस महोत्सव में देश की संस्कृति को प्रदर्शित करने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए गए। 

आजादी के अमृत महोत्सव में चरखे से लोकल फ़ॉर वोकल को बढ़ावा दिया गया। इसके लिए साबरमती आश्रम में एक चरखा रखा गया है जब कोई व्यक्ति लोकल व्यापारी और कंपनी का सामान खरीदेगा और उसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर लोकल फ़ॉर वोकल का टैग लगाकर सोशल मीडिया में डालेगा उसके तुरंत बाद ये चरखा घूमेगा।

आजादी के 75 वर्ष अमृत महोत्सव में भारत की उपलब्धियां:

आज भारत एक है, अखंड है और बहुत तीव्र गति से हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहा । अंग्रेज कह कर गए थे हमारे जाने के बाद देश तुम्हारा बिखर जायेगा पर नहीं सोचा था अंग्रेजों ने की भारत सबसे विशाल लोकतांत्रिक रूप में निखर जाएगा। आजादी के बाद भारत को कई कठिनाई का सामना करना पड़ा जैसे की भुखमरी, महँगाई, गरीबी, भ्रष्टाचार, अपराध इत्यादि लेकिन भारत ने इन सब कठिनाइयों से बाहर निकलते हुए न केवल नए रास्तों बल्कि आत्मनिर्भर भारत एवं सशक्त भारत के रास्तों पर अग्रसर है। भारत की इन्हीं उपलब्धियाँ पर एक  नजर

1948–   भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने लंदन ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता था।

1949भारतीय रिजर्व बैंक का राष्ट्रीयकरण हुआ।

1950–  भारत पूर्ण गणतंत्र  बना और पूरे देश में संविधान लागू हुआ। भारतीय रेल का राष्ट्रीयकरण हुआ था।

1951–  देश का पहला लोकसभा चुनाव, पहले एशियाई खेलों की मेजबानी, पहले आई आईटी की स्थापना।

1952–  स्वतंत्र भारत का पहला संसद सत्र बुलाया गया।

1953–  एअर इंडिया का राष्ट्रीयकरण हुआ।

1954भारत रत्न और पद्म विभूषण की शुरुआत हुई।

1955–  भारत का पहला कंप्यूटर लांच किया गया।

1956पुरुष हॉकी टीम ने मेलबर्न ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता।

1957कश्मीर के भारत में विलय के निर्णय को स्वीकृति।

1958परमाणु ऊर्जा अधिनियम पारित हुआ।

1959–  पंचायत राज का देश में पहला कदम ,दूरदर्शन की स्थापना के साथ भारत में टेलीविजन का इतिहास।

1960–  देश की पहली एयरलाइन एअर इंडिया ने अपनी पहली इंटरनेशनल फ्लाइट गोइंग 707420 न्यूयॉर्क के लिए रवाना किया था, ओलंपिक में मिल्खा सिंह रिकार्ड तोड़ने वाले पहले भारतीय थे, गुजरात और महाराष्ट्र की स्थापना हुई थी।

1961गोवा का भारत में विलय हुआ था, भारत में गुटनिरपेक्ष देशों की पहली बैठक में नेतृत्व की कमान संभाली।

1962 भारतीय फुटबॉल टीम ने एशियन गेम में गोल्ड मेडल जीता और भारत की फुटबॉल टीम शीर्ष पर पहुंची। 

1963–  भाखड़ा नांगल परियोजना संपन्न हुआ, भारत का पहला रॉकेट केरल के तिरुवंतपुरम के करीब थंबा से पहले छोड़ा गया।

1964–  भारत के पहले जेट ट्रेनर HJT-16 ने उड़ान भरी।

1965–  हरित क्रांति की शुरुआत हुई।

1966–  इंदिरा गांधी देश की पहली महिला प्रधानमंत्री बनी, रीता फारिया विश्व सुंदरी जीतने वाली पहली भारतीय बनी।

1967–  जाकिर हुसैन देश के पहले मुस्लिम राष्ट्रपति बने, मशहूर सितार वादक पंडित रवि शंकर को ग्रैमी पुरस्कार मिला।

1968शत्रु संपत्ति कानून बना, सोना खरीदनेबेचने पर सरकार का नियंत्रण, डॉ प्रफुल्ल सेन ने हृदय प्रत्यारोपण सर्जरी करके दुनिया के तीसरे डॉक्टर बने।

1969भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) की स्थापना हुई।

1970भारत में श्वेत क्रांति की शुरुआत, भारत में निर्मित पहला मिग 21 एक वायु सेना में शामिल हुआ।

1971भारत ने बांग्लादेश को पाकिस्तान से आजादी दिलाने के लिए सैन्य हस्तक्षेप में मदद की जिससे बांग्लादेश का जन्म हुआ।

1972पिन कोड की शुरुआत की गई।

1973चिपको आंदोलन की शुरुआत हुई जो कि एक वन संरक्षण आंदोलन था, प्रोजेक्ट टाइगर लांच किया गया।

1974–  पोखरण में पहला परमाणु परीक्षण किया गया।

1975पहला भारतीय उपग्रह आर्यभट्ट लांच किया गया, हॉकी विश्व विजेता बना।

1976बंधुआ मजदूर प्रथा को भारत में समाप्त किया गया

1977–  देश में पहली गैर कांग्रेसी सरकार बनी।

1978भारत की पहली टेस्ट ट्यूब बेबी दुर्गा का जन्म हुआ।

1779–  मंडल आयोग की स्थापना, सुप्रीम कोर्ट ने जन हित याचिका को बताया वैध।

1980–  चेचक से निपटने के लिए सबसे लंबे टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत।

1981इस वर्ष आईटी कंपनी इंफोसिस की स्थापना की गई वहीं दूसरी ओर नेशनल एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड (नाल्को) को भी स्थापित किया गया।

1982– नई दिल्ली में भारत ने एशियाड खेलों की मेजबानी संभाली।

1983– भारत में पहली बार क्रिकेट विश्व कप जीता था।

1984– भारत के पहले और विश्व के 138 में अंतरिक्ष यात्री बने राकेश शर्मा।

1985– भारत की सबसे प्रतिष्ठित ओपन यूनिवर्सिटी इग्नू (IGNOU) की स्थापना हुई संसद में आतंक (TADA) निरोधी कानून पास किया गया। 

1986– प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पहल पर उपभोक्ता संरक्षण विधेयक संसद में पारित किया गया, नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का भी गठन हुआ, एशियाई खेलों में पीटी उषा की ऐतिहासिक जीत।

1987– सुनील गावस्कर ने टेस्ट मैच में 10000 रन स्कोर करने वाले पहले क्रिकेटर बने, गोवा भारत का 25वे राज्य के रूप में अस्तित्व में आया।

1988– वोट डालने के लिए उम्र को 21 वर्ष से घटाकर 18 वर्ष कर दिया गया।

1989– केरल का कोट्टायम भारत का पहला पूर्ण साक्षर जिला घोषित हुआ।

1990– सरकारी नौकरी में लागू हुई मंडल आयोग की सिफारिशें, भारत सरकार द्वारा 11,000 भारतीयों को कुवैत से एअरलिफ्ट कराया गया।

1991– उदारीकरण से नई अर्थव्यवस्था की नींव पड़ी, सुपर कंप्यूटर परम 8000 बना।

1992 – सत्यजी रे को ऑस्कर अवार्ड से नवाजा गया।

1993– भारत में लागू हुआ पंचायती राज कानून।

1994 – सुष्मिता सेन ने मिस यूनिवर्स और ऐश्वर्या राय ने मिस वर्ल्ड का ताज जीता।

1995 – पहली बार इंटरनेट का इस्तेमाल हुआ, देश की पहली दलित महिला मुख्यमंत्री मायावती बनी थी, मिड डे मील की शुरुआत हुई थी।

1996– अटलांटा ओलंपिक में लिएंडर पेस ने कांस्य पदक जीता था।

1997– अरुंधति राय ने ‘द गॉड ऑफ स्मॉल थिंग्स’ के लिए बुकर पुरस्कार जीता। 

1998– भारत में दो और परमाणु परीक्षण किए, अमर्त्य सेन को मिला नोबेल पुरस्कार।

1999– भारत में कारगिल युद्ध जीता।

2000– विश्व शतरंज चैंपियन बने विश्वनाथन आनंद।

2001– पहले स्वदेश निर्मित लड़ाकू जेट तेजस ने उड़ान भरी, सर्व शिक्षा अभियान की शुरुआत।

2002– स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना की शुरुआत, मैरीकॉम ने मुक्केबाजी में पहला स्वर्ण पदक जीता।

2003 – सानिया मिर्जा विंबलडन के डबल्स ट्रॉफी जीतने वाली पहली भारतीय बनीं।

2004– पहला टेस्ट मैच जीता।

2005– सूचना के अधिकार कानून हुआ।

2006– परिमार्जन नेगी अंतर्राष्ट्रीय चैस ग्रैंडमास्टर मास्टर बनने वाले सबसे युवा एशियाई बने।

2007– प्रतिभा पाटिल देश की पहली महिला राष्ट्रपति बनी।

2008– भारतीय निशानेबाज अभिनव बिंद्रा ने शूटिंग में स्वर्ण पदक जीता, मिशन चंद्रयान-1 को सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया।

2009– शिक्षा का अधिकार अधिनियम लागू हुआ, पहेली स्वदेशी परमाणु पनडुब्बी आईएनएस अरिहंत लॉन्च हुआ।

2010– कामनवेल्थ की मेजबानी करने का मौका मिला।

2011– 27 साल बाद टीम इंडिया ने क्रिकेट विश्व कप जीता।

2012– लंदन ओलंपिक में भारत ने 6 मेडल जीते।

2013– राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम पारित हुआ, मंगल यान ने मंगल ग्रह पर चक्कर लगाया।

2014– WHO ने देश को पोलियो मुक्त घोषित किया।

2015– इंदिरा गांधी एयरपोर्ट को बेस्ट एयरपोर्ट का अवार्ड मिला।

2016– पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक किया गया।

2017– भारत में जीएसटी को हरी झंडी दिखाई।

2018– रेलवे ने 69 दिनों में डीजल इंजन को इलेक्ट्रिक में बदल दिया।

2019– वायु सेना ने बालाकोट में एअर स्ट्राइक की, चंद्रमा पर दूसरे मिशन चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण किया गया, लोकसभा में सबसे ज्यादा महिला सांसद चुनी गई, जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 निष्प्रभावी किया गया।

2020– देश की पहली किसान रेल शुरू हुई, पहला ग्लास ब्रिज बिहार के राजगीर  में नेचर सफारी में बनाया गया है।

2021– भारत के जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता, हरनाज कौर संधू ने मिस यूनिवर्स का खिताब जीता, दुनिया का सबसे हल्का लड़ाकू हेलिकॉप्टर बनाया, स्वदेशी कोरोना वैक्सीन को-वैक्सीन आई।

उपसंहार: आजादी का अमृत महोत्सव

आजादी के 75वी वर्षगांठ पर इस अमृत महोत्सव में भारत अपने 75 साल पर उपलब्धियों 75 साल पर विचार 75 साल पर एक्शन और 75 साल पर संकल्प के  शामिल है, जो स्वतंत्र भारत के सपनों को साकार करने के लिए और आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा देगा।

और पढ़ने के लिए क्लिक करें !!->

Leave a Reply